ताजा खबर
Home / Darde dil / लिखूं कुछ आज यह वक़्त का तकाजा है

लिखूं कुछ आज यह वक़्त का तकाजा है

लिखूं कुछ आज यह वक़्त का तकाजा है;
मेरे दिल का दर्द अभी ताजा-ताजा है;
गिर पड़ते हैं मेरे आंसू मेरे ही कागज पर;
लगता है कि कलम में स्याही का दर्द ज्यादा है!

About Sanjay Patel

Hi, मेरा नाम संजय पटेल है। मैं एक सॉफ्टवेयर प्रोफेशनल हूँ । जोक्स जंक्शन मेरा एक प्रयास है कि लोगों को कैसे खुश रखा जाय । ब्लॉग्गिंग मेरी हॉबी है, क्योंकि लिखना मुझे बहुत पसंद है । jokesjunction.in पर आपको बहुत कुछ सीखने को मिलेगा जो आप सीखना चाहतें है । भविष्य में हम जोक्स जंक्शन पर student से related topics जैसे poem , speeches , educational activity लेकर आ रहें हैं ।

Check Also

कैसे बदल दूँ फितरत मैं ये अपनी

कैसे बदल दूँ फितरत मैं ये अपनी !! मुझे तुम्हे सोचने की आदत सी हो …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *